नारियों के ‘‘नाम’’ पर विशेष ‘‘कविता’’

आभा, प्रभा, प्रतिभा, प्रेरणा की प्रेरक है नारी!! आरती, पूजा, प्रार्थना, वंदना, आराध्ना की ‘‘साधना’’ है नारी!! ममता, क्षमता, संतोष, मध्ु की बहती मध्ुर ‘‘सरिता’’ है नारी!! गंगा, जमुना, सरस्वती की पवित्रा ‘‘धरा’’ है नारी!! चंदा, तारा, सितारा सविता किरण की ‘‘रोशनी’’ है नारी!! हीरा, मेाती, रत्न, सोना, नीलम की अद्वितीय ‘‘नगीना’’ है नारी!! वीणा, […]

Continue Reading