वैज्ञानिक डाॅक्टर विक्रम साराभाई

विद्यावाचस्पति डाॅ. अरविन्द प्रेमचंद जैन विक्रम अंबालाल साराभाई भारत के प्रमुख वैज्ञानिक थे। इन्होंने 86 वैज्ञानिक शोध् पत्रा लिखे एवं 40 संस्थान खोले। इनको विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्रा में सन 1966 में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। डाॅ. विक्रम साराभाई के नाम को भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम से अलग […]

Continue Reading

अन्याय से धन कमाने की अपेक्षा दरिद्र रहना अच्छा

विद्यावाचस्पति डाॅ. अरविन्द प्रेमचंद जैन अन्याय से ध्न कमाने की अपेक्षा दरिद्री रहना अच्छा है। वर्षा के जल से कभी नदी में बाढ़ नहीं आती जब तक की उसमंे नाले और नालियों का पानी न मिले। मनुष्य भौतिक सुविधओं के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता है। उसे बाह्य सामग्री में सुख मिलता हैं […]

Continue Reading

नारियों के ‘‘नाम’’ पर विशेष ‘‘कविता’’

आभा, प्रभा, प्रतिभा, प्रेरणा की प्रेरक है नारी!! आरती, पूजा, प्रार्थना, वंदना, आराध्ना की ‘‘साधना’’ है नारी!! ममता, क्षमता, संतोष, मध्ु की बहती मध्ुर ‘‘सरिता’’ है नारी!! गंगा, जमुना, सरस्वती की पवित्रा ‘‘धरा’’ है नारी!! चंदा, तारा, सितारा सविता किरण की ‘‘रोशनी’’ है नारी!! हीरा, मेाती, रत्न, सोना, नीलम की अद्वितीय ‘‘नगीना’’ है नारी!! वीणा, […]

Continue Reading